6 प्रशिक्षण वर्गों में 15 गाँवों के 122 किसानों को प्रशिक्षण दिया गया

 गो आधारित ग्राम विकास के लिए 6 पंचायतों के प्रशिक्षण वर्गों में 15 गाँवों के 122 किसानों को गोबर और गौमूत्र के उपयोग द्वारा आर्थिक विकास का प्रशिक्षण दिया गया।

1) दिनांक 11 मार्च से 13 मार्च तक : उत्तर मालदा जिला के पुकुरिआ खंड के डांगापाड़ा अंचल के प्रशिक्षण वर्ग में 3 गाँव से हुए 23  किसानों को प्रशिक्षण दिया गया जिसमें 12 महिला थीं।

2) दिनांक 14 मार्च से 17 मार्च तक : दक्षिण दिनाजपुर  जिला के बालुरघाट खंड के चिंगिसपुर अंचल के प्रशिक्षण 

वर्ग में 1 गाँव से आये हुए 18 किसानों को प्रशिक्षण दिया गया। 

3) दिनांक 16 मार्च से 19 मार्च तक : पूर्व मेदनीपुर जिला के सुतहटा खंड के देवलपोता अंचल के प्रशिक्षण वर्ग में 1 गाँव से आये हुए 24 किसानों को प्रशिक्षण दिया गया जिसमें 22 महिला थीं।

4) दिनांक 11 मार्च से 14 मार्च तक : बरईपुर जिला के कुन्तली-1 खंड के जालाबेरिआ अंचल के प्रशिक्षण वर्ग में 3 गाँव से आये हुए 16 किसानों को प्रशिक्षण दिया गया जिसमें 8 महिला थी।

5) दिनांक 15 मार्च से 18 मार्च तक : दक्षिण मुर्शिदाबाद जिला के लालबाग खंड के तेतुलिआ अंचल के प्रशिक्षण वर्ग में 4 गाँव से आये हुए 15 किसानों को प्रशिक्षण दिया गया। जिसमें 1 महिला थी।

6) दिनांक 18 मार्च से 21 मार्च तक : कूचविहार जिला के पुंडीवारी खंड के बोरोरंगरस अंचल के प्रशिक्षण वर्ग में 3 गाँव से आये हुए 26 किसानों को प्रशिक्षण दिया गया। जिसमें 17 महिला थी।

अब तक कुल 185 प्रशिक्षण वर्ग में 1080 गांव के 3666 किसानों को प्रशिक्षण दिया जा चुका है।

गोरक्षा हेतु गोग्राम अभियान को बंगाल के सभी 40000 गांव तक पहुंचाने के लिए गोग्राम संरक्षक बन, आप भी इस अभियान में सहभागी बनें। संपर्क सूत्र : 8100330044

  • 31st Mar, 2023