गोसेवा परिवार द्वारा प्रशिक्षित किसान अब गोवंश को बेचता नही अपितु आजीवन उसका पालन करता है और उसकी नैसर्गिक मृत्यु के बाद उसको आदर भाव से समाधि देता है।

23 जनवरी 2021
गोग्राम वार्ता : गोमाता की मृत्यु होने पर क्या करना चाहिए इस विषय का ज्ञान अधिकांश गो पालकों को नहीं है। यह विषय गोपालकों के लिए एक बड़ी समस्या थी। गोसेवा परिवार ने अपने प्रशिक्षण वर्गों में इस विषय पर गोपालक किसानों को समाधि देने की पद्धति के बारे में प्रशिक्षित किया है। इसके परिणाम स्वरुप दक्षिण २४ परगना, कैनिंग १ खंड के रनिया ग्राम के गोपालक किसान ने गौ माता की मृत्यु होने पर उन्हें समाधि दी। समाधि की पद्धति से पर्यावरण और भूमि दोनों की सुरक्षा होती है। गो माता की समाधि देने से बहुत अच्छी खाद का निर्माण होता है जिसे अच्छे मूल्य पर बेचा जा सकता है इससे किसानों को बहुत लाभ हो सकता है।

  • 23rd Jan, 2021